2019 : मोदी के नए कैबिनेट में किसे मिलने वाली है जगह और किसकी होगी छुट्टी ?

Modi Cabinet 2019

लोकसभा चुनाव २०१९ में बम्पर जीत हासिल कर बीजेपी और सहयोगी दल एक बार फिर से नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनाने वाले हैं। अब देखना ये है की किसे कौन सा मंत्रालय मिलता है। जहाँ तक पिछले कैबिनेट का सवाल है तो अरुण जेटली , सुषमा स्वराज से लेकर निर्मला सीतारमन, नितिन गडकरी और पियूष गोयल जैसे मत्रियों का कार्यकाल काफी अच्छा रहा है।
आईये देखते हैं उन बड़े नामों को जिन के मंत्री बनने की सम्भवना है :

१. अमित शाह : अहमदाबाद के सीट से भरी मतों से जीत कर संसद पहुंचे अमित भाई शाह को बीजेपी की जीत का उतना ही श्रेय मिल रहा है जितना की नरेंद्र मोदी को। इस बार उनका मंत्री बनना तय माना जा रहा है। गृह, रक्षा या विदेश मंत्रालय जैसे अहम पद उन्हें मिलने की पूरी संभावना है।


२. अरुण जेटली : हालाँकि पिछले २ महीने से राजनितिक पटल से गायब रहे पूर्व वित्त मंत्री अभी अपना इलाज करवा रहे हैं और अटकलें हैं इस बार वो कोई भी मंत्रालय ना स्वीकार करें। लेकिन फिर भी उनकी योग्यता और पिछले ५ साल के कार्यों को देख कर बीजेपी उनसे अहम् पद निभाने का निवेदन कर सकती है।


३. पियूष गोयल : पियूष गोयल को वित्त मंत्रालय दिया जा सकता है। पिछले सरकार में उन्होंने अरुण जेटली की गैर मौजूदगी में पहले भी इस पद का निर्वाहन किया है।


४. निर्मला सीतारमण : रक्षा मंत्री के तौर पर निर्मला जी का कार्यकाल काफी सराहनीय रहा है। एक बार फिर से उन्हें मंत्री बनाये जाने की पूर्ण संभावना है।


५. राजनाथ सिंह : राजनाथ सिंह बीजेपी के कद्दावर नेता माने जाते हैं। इससे पहले उनके पास गृह मंत्रालय जैसा सबसे अहम मंत्रालय था। इस बार भी उन्हें प्रमुख मंत्रालय ही दिए जाने की संभावना है।


६. नितिन गडकरी : अगर किस मंत्री की सबसे अधिक सराहना हुयी है तो वो हैं नितिन गडकरी । पार्टी में उनके कद और विगत कार्यों को देखते हुए उन्हें फिर से प्रमुख मंत्रालय मिलने की संभावना है।


७. स्मृति मलहोत्रा ईरानी : इस बार के लोकसभा परिणाम में जिसके जीत ने सबसे अधिक चौंकाया है वो हैं स्मृति ईरानी। राहुल गांधी को अमेठी में पटखनी देकर उन्होंने अपना कद पार्टी में बहुत ऊँचा कर लिया है। इस बार उन्हें अहम मंत्रालय की पूरी उम्मीद होगी।


८. सुषमा स्वराज : विदेश मंत्री के तौर पर सुषमा स्वराज ने अपने काम से सबों को प्रभावित किया है। बीजेपी में उनका कद पहले से बड़ा है। हालाँकि स्वास्थ्य कारणों से उनके मंत्री ना बनने की अटकलें भी तेज है। लेकिन बीजेपी ये निर्णय उन्ही पर छोड़ना चाहेगी। और अगर वो मंत्री बनती हैं तो कोई प्रमुख मंत्रालय ही उन्हें मिलेगा।


९. जेडीयू : JDU ने जिस तरह से १६ सीटें जीती हैं और नितीश – मोदी के आपसी सम्बन्ध जिस तरह से अच्छे हुए हैं, उम्मीद की जा रही है की २-४ मंत्रालय उन्हें भी दिया जा सकता है।


१० LJP : रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के मंत्री बनने की संभावना भी जताई जा रही है। LJP ने बिहार में ६ सीटें अपने नाम की हैं।


११. शिवसेना : शिवसेना ने महाराष्ट्र में जिस तरह से प्रदर्शन किया है और ठाकरे परिवार से मोदी की नजदीकियां शिवसेना को ३-४ मंत्रालय दिलवा सकती है।